13 Jun 2024, 00:10:45 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
zara hatke

वैज्ञानिकों का दावा-'पृथ्वी पर दम घुटने से हो जाएगा जीवन का अंत, नहीं बचेगा Oxygen और फिर...'

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Nov 18 2023 6:13PM | Updated Date: Nov 18 2023 6:13PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि पृथ्वी पर जीवन का अंत दम घुटने से हो सकता है। उन्होंने कहा कि दूसरे ग्रह पर जीवन की तलाश करनी होगी। वैज्ञानिकों ने पृथ्वी के वायुमंडल में एक नाटकीय बदलाव का अनुमान लगाया है, जिससे यह लगभग 2.4 अरब साल पहले ग्रेट ऑक्सीडेशन इवेंट (GOE) से पहले जैसी स्थिति में लौट सकता है। इस घटना ने, जिसमें वायुमंडलीय ऑक्सीजन में उल्लेखनीय वृद्धि देखी गई, जिसने हमारे ग्रह के पर्यावरण को मौलिक रूप से बदल दिया है और मनुष्यों और सभी जीव-जंतुओं के जीवन को जीने के लिए सक्षम किया। हालांकि, साल 2021 में प्रकाशित शोध से पता चलता है कि यह ऑक्सीजन-समृद्ध अवधि पृथ्वी के इतिहास की स्थायी विशेषता नहीं हो सकती है।

अध्ययन से ये भी संकेत मिलता है कि अगले अरब वर्षों के भीतर, तेजी से डीऑक्सीजनेशन की घटना घट सकती है, जिससे आर्कियन पृथ्वी के समान मीथेन गैस से भरा वातावरण बन सकता है। यह परिवर्तन मानव सभ्यता सहित ऑक्सीजन पर निर्भर जीवन के अंत का प्रतीक होगा, जब तक कि हम अपने इस ग्रह को छोड़ने के साधन विकसित नहीं कर लेते। 

शोधकर्ताओं ने पृथ्वी के जीवमंडल के जटिल मॉडल का उपयोग किया, जिसमें सूर्य की बढ़ती चमक और बढ़ती गर्मी के कारण गैस के टूटने के कारण कार्बन डाइऑक्साइड के स्तर में गिरावट को ध्यान में रखा गया। शोध की रिपोर्ट के मुताबिक CO2 के निम्न स्तर के साथ, पौधों जैसे प्रकाश संश्लेषक जीव कम हो जाएंगे, जिसके परिणामस्वरूप ऑक्सीजन उत्पादन में भारी गिरावट आएगी।

पिछली भविष्यवाणियों में सुझाव दिया गया था कि बढ़ते सौर विकिरण से पृथ्वी के महासागर लगभग 2 अरब वर्षों में वाष्पित हो जाएंगे, लेकिन लगभग 4,00,000 सिमुलेशन पर आधारित इस नए मॉडल से पता चलता है कि ऑक्सीजन की कमी सतह के पानी के नुकसान से पहले होगी और तत्काल रूप ले जीवन के लिए अधिक घातक साबित होगी। 

जॉर्जिया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के पृथ्वी वैज्ञानिक क्रिस रेनहार्ड ने अनुमानित ऑक्सीजन की गिरावट की गंभीरता पर जोर दिया। उन्होंने न्यू साइंटिस्ट को बताया कि अनुमान से पता चलता है कि यह मौजूदा स्तर से दस लाख गुना कम है। इस तरह की भारी कमी से हमारा ग्रह एरोबिक जीवों के लिए दुर्गम हो जाएगा, जो वर्तमान में पृथ्वी पर पनप रहे अधिकांश जीवन रूपों के अंत का संकेत होगा।

इस शोध का अलौकिक जीवन की खोज पर महत्वपूर्ण प्रभाव है। जैसे-जैसे खगोलशास्त्री रहने योग्य ग्रहों की खोज के लिए तेजी से शक्तिशाली दूरबीनों का उपयोग कर रहे हैं, निष्कर्ष बताते हैं कि जीवन का संकेत देने के लिए ऑक्सीजन एकमात्र बायोसिग्नेचर नहीं हो सकता है। नासा के एनईएक्सएसएस (नेक्सस फॉर एक्सोप्लैनेट सिस्टम साइंस) प्रोजेक्ट का हिस्सा इस अध्ययन को सलाह देता है कि जीवन का पता लगाने की खोज में वैकल्पिक बायोसिग्नेचर पर भी विचार किया जाना चाहिए।

जापान में टोहो विश्वविद्यालय के काज़ुमी ओज़ाकी, जिन्होंने अध्ययन में सहयोग किया, ने डीऑक्सीजनेशन के बाद के वातावरण को ऊंचा मीथेन स्तर, कम CO2 और कोई सुरक्षात्मक ओजोन परत नहीं होने के रूप में वर्णित किया। इस भविष्य के परिदृश्य में, अवायवीय जीवन रूपों का प्रभुत्व होगा, जो ऑक्सीजन पर निर्भर प्रजातियों के लुप्त होने के बाद भी लंबे समय तक जीवन चक्र जारी रखेंगे।

इस शोध के निहितार्थ गहरे हैं, जो बताते हैं कि पृथ्वी का ऑक्सीजन-समृद्ध युग ग्रह के कुल जीवनकाल का केवल 20-30 प्रतिशत ही रह सकता है। जैसा कि मानवता जलवायु परिवर्तन और पर्यावरणीय गिरावट की चुनौतियों से जूझ रही है, सुदूर भविष्य की यह झलक हमारे ग्रह की लगातार बदलती प्रकृति और उन स्थितियों की क्षणभंगुरता की याद दिलाती है जो जीवन का समर्थन करती हैं जैसा कि हम जानते हैं।

 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »