30 Jul 2021, 21:52:39 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State

असम व UP में दो बच्चे वालों को ही मिलेगी सरकारी सुविधाएं, कानून बनाने में जुटी राज्य सरकारें

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Jun 20 2021 12:22PM | Updated Date: Jun 20 2021 4:29PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

नई दिल्ली। अब सरकारी योजनाओं का लाभ उन्हीं लोगों को दिया जाएगा, जो 2 बच्चों की POLICY का पालन करेंगे। राज्य विधि आयोग ने UP में जनसंख्या नियंत्रण के लिए कानून का मसौदा बनाना शुरू कर दिया है। दूसरी तरफ असम के CM हिमंता बिस्व सरमा ने भी शनिवार को कहा कि राज्य सरकार कुछ विशेष सरकारी योजनाओं का लाभ देने में 2 बच्चा नीति लागू करेगी। यह काम क्रमवार तरीके से किया जाएगा। असम के CM ने कहा कि प्रस्तावित जनसंख्या नियंत्रण नीति को असम की सभी योजनाओं में तुरंत लागू नहीं किया जाएगा, क्योंकि कई योजनाएं केंद्र  सरकार की मदद से चलाई जा रही हैं। 

उन्होंने कहा, कुछ योजनाओं में हम 2 बच्चा Policy को लागू नहीं कर सकते। जैसे-स्कूलों और कालेजों में मुफ्त नामांकन या प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मकान देने में इसे लागू नहीं किया जा सकता। लेकिन, यदि राज्य सरकार की ओर से कोई आवास योजना लागू की जाती है तो उसमें दो बच्चा नीति को लागू किया जा सकता है। आगे चलकर धीरे-धीरे जनसंख्या नीति को राज्य सरकार की हर योजना में लागू किया जाएगा।
 
हम दो, हमारे दो। बच्चे दो ही अच्छे। ऐसी सोच रखने वालों के लिए UP में आने वाले दिनों में जिंदगी की राह आसान होगी। UP विधि आयोग फिलहाल राजस्थान व MP समेत कुछ अन्य राज्यों में लागू कानूनों के साथ सामाजिक परिस्थितियों व अन्य ¨बदुओं पर अध्ययन कर रहा है। जल्द वह अपना प्रतिवेदन तैयार कर राज्य सरकार को सौंपेगा। राज्य में बीते चार वर्षो के दौरान उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्म संपरिवर्तन प्रतिषेध अधिनियम व उत्तर प्रदेश लोक तथा निजी संपत्ति क्षति वसूली अधिनियम समेत कई नए कानून लागू किए गए हैं। कई अहम कानूनों में बदलाव की रूपरेखा तैयार की जा चुकी है। इसी कड़ी में विधि आयोग ने अब जनसंख्या नियंत्रण के बड़े मुद्दे पर अपना काम शुरू किया है। इसके तहत सरकारी योजनाओं का लाभ उन्हीं लोगों को मिलेगा, जिनके 2 या 2 से कम बच्चे हैं।
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »