20 May 2024, 18:49:04 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Health

यूरिक एसिड बढ़ने पर आप हो सकते हैं इन खतरनाक बीमारियों के शिकार, जानें बचाव

By Dabangdunia News Service | Publish Date: May 7 2024 5:54PM | Updated Date: May 7 2024 5:54PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

डाइट में गड़बड़ी होने और कम फिजिकल एक्टिविटी करने की वजह से शरीर में यूरिक एसिड बढ़ने लगता है। यूरिक एसिड की समस्या होने पर जोड़ों में दर्द, घुटनों में दर्द, एडी में दर्द और सूजन होने लगती है। ऐसे लोगों को गठिया जैसी हड्डियों की बीमारी होने का खतरा ज्यादा रहता है। जब शरीर में यूरिक एसिड बढ़ने लगता है तो किडनी इसे फिल्टर कर पूरी तरह से बाहर नहीं निकाल पाती है। ये यूरिक एसिड जोड़ों और सेल्स में जमा होने लगता है, जिसकी वजह से न सिर्फ जोड़ों में दर्द और सूजन आने लगती है बल्कि कई दूसरी गंभीर बीमारियों का खतरा भी बढ़ जाता है। जानते हैं यूरिक एसिड बढ़ने पर कौन सी बीमारियां हो सकती हैं?

हाई यूरिक एसिड से कौन सी बीमारी होती हैं? (Diseases Caused By High Uric Acid)

प्यूरीन नामक प्रोटीन से शरीर में यूरिक एसिड बनता है। जब हाई प्रोटीन डाइट का सेवन ज्यादा करते हैं और फिजिकल एक्टिविटी कम होती है तो प्यूरीन की मात्रा बढ़ जाती है। इस तरह के फूड्स खाने से यूरिक एसिड बढ़ने लगता है। डॉक्टर्स की मानें तो शरीर में बनने वाले यूरिक एसिड का 60 से 65 प्रतिशत हमारी किडनी बाहर निकाल देती है। बचा हुआ यूरिक एसिड पित्ता और आंतों के रास्ते बाहर निकल जाता है। हालांकि जब किडनी यूरिक एसिड को नहीं निकाल पाती है तो ये जोड़ों में जमा होने लगता है। इससे हार्ट, किडनी और लिवर से जुड़ी बीमारियां भी हो सकती हैं।

गठिया (Gout)- हाई यूरिक एसिड के मरीज को गठिया होने का खतरा बढ़ जाता है। जब शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ती है तो ये जोड़ों में जमा होने लगती है। इससे जोड़ों में दर्द, सूजन और लालिमा जैसी समस्या होने लगती है। पैर, घुटनों और पैर के अंगूठे- उंगलियां सबसे ज्यादा प्रभावित होते हैं।

पथरी (Kidney Stones)- शरीर में यूरिक एसिड बढ़ने के कारण किडनी में पथरी होने का खतरा भी बढ़ जाता है। यूरिक एसिड में क्रिस्टल्स की मात्रा होती है जो पथरी का कारण बनते हैं। पथरी होने पर ये क्रिस्टल्स पेशाब के रास्ते में जमा हो जाते हैं जो गंभीर परेशानी खड़ी कर सकते हैं।

डायबिटीज (Diabetes)- यूरिक एसिड बढ़ने पर शरीर में इंसुलिन भी प्रभावित होता है। जिससे डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है। हाई यूरिक एसिड की वजह से इंसुलिन बनना और उसकी सप्लाई प्रभावित होती है। ऐसे में शुगर की बीमारी का खतरा पैदा हो सकता है।

हार्ट की बीमारी (Heart Disease)- जब शरीर में यूरिक एसिड हाई होता है तो इससे ब्लड का रोटेशन बढ़ जाता है। ऐसी स्थिति हार्ट के लिए खतरनाक हो सकती है। इससे नसों और धमनियों को नुकसान हो सकता है।

यूरिक एसिड को कैसे कंट्रोल करें?

हेल्दी डाइट अपनाएं

खाने में प्रोटीन फूड्स कम लें

हाई फाइबर फूड डाइट में शामिल करें

विटामिन सी से भरपूर चीजें खाएं

वजन कंट्रोल रखें और फिजिकली एक्टिव रहें

शराब और सिगरेट पीना बंद कर दें

रोजाान पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं

  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »