22 May 2024, 10:56:58 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State

हिमाचल CM के जिले में बन रहा पुल टूटा, जयराम राज में 2.97 करोड़ रुपये में BJP नेता को मिला था ठेका

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Apr 1 2023 12:39PM | Updated Date: Apr 1 2023 12:39PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

हमीरपुर। हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर जिले के भोरंज विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत नाबार्ड के तहत करोड़ों की लागत से बन रहा निर्माणाधीन पुल ध्वस्त हो गया। पुल के निर्माण में घटिया सामग्री के इस्तेमाल के चलते यह पुल बीच से ढह गया। अब सरकार ने मामले में जांच बिठा दी है। गौरतल है कि जयराम सरकार में भाजपा के एक नेता को इस पुल के निर्माण का ठेका मिला था। अब हिमाचल प्रदेश सरकार के निर्देशों पर ईएनसी शिमला के क्वालिटी कंट्रोल सेल के अधिकारी रविवार तक पहुंचकर मौके पर निरीक्षण करेंगे।  अधिकारियों की इस टीम के विजिट के बाद ही इस प्रोजेक्ट का भविष्य तय हो पाएगा। अधिकारियों के टीम की ओर से निरीक्षण के बाद क्या तथ्य निकलकर सामने आएंगे, उसके आधार पर सरकार की तरफ से आगामी कार्रवाई करेगी। इस प्रोजेक्ट की निर्माण सामग्री की गुणवत्ता को लेकर और अन्य पहलुओं की यह टीम जांच करेगी।

नाबार्ड की योजना के तहत 2 करोड़ 97 लाख रुपये से कोट से जाहू वाया मुंडखर तुलसी के 1800 मीटर लंबी सड़क का निर्माण किया जा रहा है। इस प्रोजेक्ट में सनेहल खड्ड के 75 मीटर लंबे पुल का निर्माण हो रहा है। बुधवार देर रात को पुल का एक हिस्सा ध्वस्त हो गया। लोक निर्माण विभाग हमीरपुर के अधीक्षण अभियंता विजय चौधरी का कहना है कि मामले में अधिशासी अभियंता भोरंज और फील्ड स्टाफ से रिपोर्ट मांगी गई है। ईएनसी शिमला के क्वालिटी कंट्रोल सेल के अधिकारी रविवार को मौके पर पहुंचकर निरीक्षण करेंगे। उन्होंने कहा कि कोर्ट केस की वजह से 600 मीटर सड़क का निर्माण कार्य पूरा नहीं हो सका है। इसे जल्द पूरा करने का प्रयास किया जाएगा। जून 2023 तक इस प्रोजेक्ट का निर्माण कार्य पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।

बताया जा रहा है कि भाजपा नेता को इस पुल और सड़क का टेंडर मिला है। पुल का एक स्लैब डाला गया था। बीते बुधवार को पुल की शटरिंग खोलने के कुछ घंटे बाद ही यह स्लैब गिर गया। आनन फानन में पुल का गिरा हुआ  स्लैब और मटीरियल गायब दिया गया था, ताकि लगे कि यहां पुल था ही नहीं। निर्माणाधीन पुल का निरीक्षण करने बाद लोक निर्माण विभाग ने इसमें खामियां बताई थी। साल 2020 में पुल का काम आवंटित हुआ था और 2021 में निर्माण शुरू हुआ था। बताया जा रहा है कि 35 फीसदी काम भुगतान ठेकेदार को किया जा चुका है।

  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »