20 May 2024, 17:57:57 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State

मथुरा की बेटी ने लड्डू गोपाल संग लिए सात फेरे, भाई ने किया कन्यादान, साधु-संत लेकर आए बारात

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Apr 18 2024 6:42PM | Updated Date: Apr 18 2024 6:42PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

मध्य प्रदेश के ग्वालियर शहर में एक लड़की का अनोखा विवाह चर्चा का विषय बना हुआ है। शहर की रहने वाली शिवानी परिहार ने लड्डू गोपाल यानी भगवान श्री कृष्ण से शादी की है। वृंदावन से कई साधु संत और स्थानीय लोग लड्डू गोपाल की बारात लेकर ग्वालियर आए और पूरे विधि-विधान से शादी संपन्न हुई। खास बात ये रही कि शिवानी ने शादी सामूहिक विवाह सम्मेलन से की है, ताकि उसकी शादी को मान्यता मिल सके।

महीने भर पहले ग्वालियर के न्यू ब्रज विहार कॉलोनी में रहने वाली शिवानी परिहार ने लड्डू गोपाल संग अपनी शादी की घोषणा की थी। 17 अप्रैल यानी रामनवमी के दिन हिंदू रीति-रिवाजों के अनुरूप शिवानी की शादी संपन्न हुई। शादी में सभी रस्में हुईं। मसलन मेहंदी, तेल, मंडप, फेरे और इसके बाद शिवानी को लड्डू गोपाल के साथ विदा किया गया।

शिवानी का कन्यादान पड़ोस में रहने वाले मुंहबोले भाई-भाभी गौरव और दिव्यांशी शर्मा ने किया है। शिवानी के कन्यादान को गौरव और दिव्यांशी अपना सौभाग्य मान रहे हैं। शिवानी की शादी को लेकर पूरे मोहल्ले में खुशी का माहौल है। शिवानी के पिता राम प्रताप परिहार पेशे से सिक्योरिटी गार्ड हैं। मां मीरा प्राइवेट जॉब में हैं।

शिवानी तीन बहनों में दूसरे नंबर की है। शिवानी ग्रेजुएट है और जब से होश संभाला है तभी लड्डू गोपाल के साथ शादी करने के सपने देखती थी। शिवानी का कहना है लड्डू गोपाल से योग्य कोई वर उसके लिए हो ही नहीं सकता है। शिवानी का कहना है कि विदा के बाद वह लड्डू गोपाल के साथ वृंदावन जाएगी और वहां धार्मिक ग्रंथों का अध्ययन करेगी। साथ ही उसने बताया कि पढ़ाई पूरी हो जाने के बाद ग्वालियर आकार अपने माता-पिता के साथ रहेगी और उनकी सेवा करेगी।

शिवानी की शादी को लेकर उनके माता – पिता भी खासे उत्साहित नजर आए। शिवानी के माता पिता का कहना है कि वे अपनी बेटी के फैसले से बेहद खुश हैं, क्योंकि उन्हें भगवान श्री कृष्ण से योग्य वर कभी नहीं मिल सकता है। मंगलवार को व्रंदावन से कई संत लड्डू गोपाल की बारात लेकर ग्वालियर आए, जिनका परंपरागत तरीके से आदर सत्कार किया गया।

उनके रहने खाने आदि की मैरिज हॉल में व्यवस्था की गई थी। शादी को समाज में मान्यता मिल सके इसलिए शिवानी ने अपनी शादी सामूहिक विवाह सम्मेलन से की है, क्योंकि विवाह के बाद आयोजक शादी का प्रमाण पत्र प्रदान करते हैं। शादी का मुख्य कार्यक्रम कैंसर पहाड़िया स्थित मोटे महादेव मंदिर पर किया गया था।

जब लड्डू गोपाल पाणिग्रहण संस्कार को लेकर वैवाहिक स्थल पहुंचे तो वहां मौजूद लोग झूम उठे। आलम ये था कि सामूहिक विवाह सम्मेलन में हो रही शादियों के घरातियों और बारातियों को जमावड़ा लग गया। लोग जमकर नाचे और भगवान कृष्ण के गगनभेदी जयकारे लगाए। सर्वजातीय सामूहिक विवाह सम्मेलन के आयोजक महंत भगवान दास का कहना है रामनवमी के उपलक्ष्य में कुल 6 जोड़ों के विवाह कराए गए। इनमें शिवानी का लड्डू गोपाल के साथ विवाह शामिल है। भगवान दास का कहना है उन्होंने पहले कभी ऐसी शादी नहीं कराई। ये ग्वालियर की पहली शादी है, जो उनके द्वारा आयोजित सामूहिक विवाह सम्मेलन में कराई जा रही है।

  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »