07 Dec 2021, 15:04:17 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State » Uttar Pradesh

रालोद सत्ता में आयी तो देगी एक करोड़ युवाओं को नौकरियां : जयंत चौधरी

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Oct 28 2021 11:55AM | Updated Date: Oct 28 2021 12:26PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

मथुरा। राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जयन्त चौधरी ने आगामी विधानसभा चुनाव में रालोद-सपा गठबंधन की जीत को सुनिश्वित बताते हुये वादा किया कि सरकार बनने पर एक करोड़ युवाओं को नौकरियां दी जायेंगी। चौधरी ने यहां संवाददाताओं से कहा कि उत्तर प्रदेश के आगामी विधान सभा चुनाव में समाजवादी पार्टी (सपा) के साथ गठबंधन की रूपरेखा तय किये जाने के मुद्दे पर दोनों दलों के बीच बातचीत चल रही है और जल्द ही इस प्रक्रिया को पूरा कर लिया जायेगा। उन्‍होने कहा कि उत्तर प्रदेश में सत्ता की कुंजी किसानों एवं नौजवानों के हाथ में होगी। यह पहले ही तय हो चुका है कि आगामी विधानसभा चुनाव सपा के साथ मिलकर लड़ा जाएगा। चुनावी रणनीति को अंतिम रूप देने के लिये सपा नेतृत्व से बातचीत चल रही है।
 
उन्होने वायदा किया कि उनके गठबंधन की सरकार बनने पर युवाओं को एक करोड़ नौकरियां दी जायेंगी। इसके लिये उद्योगों को बढ़ावा देकर रोजगार के अवसर मुहैया कराये जायेंगे। रालोद प्रमुख ने पुलिस की भर्ती में उम्र सीमा को बढ़ाने का भी वादा किया। उन्होंने कहा कि सरकार बनने पर बिजली के पुराने बिल माफ होंगे और बिजली की कीमत मौजूदा कीमत से आधी कर दी जायेगी।
 
चुनाव प्रचार के दौरान पश्चिमी उत्तर प्रदेश में आयोजित आशीर्वाद पथ यात्रा के मथुरा पहुंचने पर समर्थकों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश को हर क्षेत्र में अव्वल होने का दावा करने वालों को यह बताना चाहिये कि उत्तर प्रदेश किस मामले में अव्वल है। चौधरी ने कहा कि उनकी नजर में उत्तर प्रदेश भ्रष्टाचार, अपराध और सत्ताधारी दल के नेताओं के झूठ बोलने के मामले में अव्वल है।
 
रालोद प्रमुख ने दावा किया कि इस बार प्रदेश की जनता सरकारी खजाने को बेचने वालों को सत्ता से बाहर करने जा रही है। उन्होंने कहा कि 2022 में प्रदेश के खजाने की चाबी किसानों और नौजवानों के हाथों में होगी। चौधरी ने सरकार से पूछा कि किसानों की आमदनी दोगुनी करने का दावा करने वाली सरकार बताये कि क्या बेकाबू मंहगाई के कारण किसानों की कृषि लागत दोगुनी नहीं हुयी? उन्होंने दलील दी कि आज डीएपी खाद के लिए किसानों को जान देनी पड़ रही है। 
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »