02 Oct 2020, 04:20:45 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State

नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश में हो रहे हैं सकारात्मक बदलाव: शिवराज

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Aug 9 2020 12:29AM | Updated Date: Aug 9 2020 12:29AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कुशल नेतृत्व में देश में सुशासन के क्षेत्र में सकारात्मक बदलाव हो रहे हैं। आधिकारिक जानकारी के अनुसार चौहान आज आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के अंतर्गत सुशासन विषय पर आयोजित वेबिनार के समापन सत्र को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश भी सुशासन एवं आत्मनिर्भर भारत की अवधारणा को मूर्त रूप देने के लिए कृत-संकल्पित है तथा इसके लिए प्रदेश में तेज गति से कार्य हो रहा है।
 
उन्होंने कहा कि विषय विशेषज्ञों के साथ वेबिनार के आयोजन का उद्देश्य विभिन्न क्षेत्रों में सर्वश्रेष्ठ योजनाएं बनाकर, उन्हें प्रभावी ढंग से प्रदेश में लागू करना है। वेबिनार में मंथन के उपरांत निकले अमृत को जनता तक पहुंचाने में मध्यप्रदेश में तत्परता के साथ कार्य होगा। प्रदेश में शासकीय अमले एवं जनसामान्य में परिपूर्ण जीवनशैली एवं सकारात्मकता बढ़ाने में राज्य आनंद संस्थान ने महत्वपूर्ण योगदान दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इससे शासकीय अमले की कार्यशैली में बदलाव आया है और वह रोते-गाते कार्य करने के स्थान पर, केवल नौकरी के लिए नहीं, बल्कि एक बड़े उद्देश्य प्रदेश के विकास के लिए कार्य कर रहा है।
 
उन्होंने नीति आयोग के साथियों से अनुरोध किया कि वे इस बदलाव का आकलन करें। वेबिनार में विनय सहस्त्रबुद्धे ने कहा कि मध्यप्रदेश ने चौहान के कुशल नेतृत्व में सुशासन के क्षेत्र में कीर्तिमान स्थापित किए हैं। मध्यप्रदेश में लागू लोक सेवा गारंटी अधिनियम को अन्य राज्यों ने भी लागू किया है। यह सुशासन की दृष्टि से अत्यंत उपयोगी है। इसके साथ ही मध्यप्रदेश में कृषि एवं रोजगार वृद्धि के संबंध में उल्लेखनीय कार्य हो रहे हैं। मध्यप्रदेश द्वारा चालू किया गया ‘रोजगार सेतु’ पोर्टल बहुत प्रभावी है।
 
सहस्त्रबुद्धे ने सुशासन की प्रमुख चुनौतियों एवं समाधानों के विषय में कहा कि सुशासन के समक्ष चार प्रमुख चुनौतियां, उद्देश्यपूर्णता का अभाव, विश्वसनीयता का अभाव, स्वामित्व भाव का अभाव तथा आपसी संबंधों का अभाव है। यदि इन्हें दूर कर दिया जाए, तो निश्चित रूप से हम देश एवं प्रदेश में सुशासन ला सकते हैं। इस मौके पर मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस ने सभी का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि वेबिनार में प्राप्त विषय विशेषज्ञों के सुझावों को प्रदेश में शीघ्र योजनाओं और नीतियों में परिवर्तित कर इनका लाभ जनता को दिया जाएगा।
 
सुशासन पर आयोजित वेबिनार के समापन सत्र में सहकारिता एवं लोक सेवा प्रबंधन मंत्री अरंिवद भदौरिया, उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव, पिछड़ा वर्ग तथा अल्पसंख्यक कल्याण राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रामखेलावन पटेल, स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) इंदर सिंह परमार सहित विषय-विशेषज्ञ तथा विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे। वेबिनार में बताया गया कि जनसामान्य को मूलभूत सुविधाएं घर बैठे मिल सकें, इसके लिए डिजीटल सुविधा का विस्तार किया जाए।
 
'फेसलैस तकनीक' के माध्यम से व्यक्ति की शासकीय कार्यालयों में भौतिक उपस्थिति के­ बिना ही उसके कार्य हो सकें। विभिन्न क्षेत्रों में कार्यरत प्रतिभावान युवाओं को शासकीय व्यवस्था से जोड़ने की दिशा में कार्य हो। शासन के सभी विभागों की जानकारियों को ‘सिंगल डाटाबेस’ पर उपलब्ध कराया जाए। ई-ऑफिस व्यवस्था को प्रोत्साहित किया जाए। प्रदेश में ‘आऊटसोर्सिंग कार्पोरेशन’ बनाया जाए, जो सभी विभागों के लिए आऊटसोर्सिंग का काम करें सहित अन्य सुझाव विषय विशेषज्ञों द्वारा दिए गए हैं। 
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »