30 Jul 2021, 22:11:19 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State

फिल्म निर्माता आयशा सुल्ताना देशद्रोह केस में लक्षद्वीप पुलिस के सामने हुईं पेश

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Jun 20 2021 5:52PM | Updated Date: Jun 20 2021 5:52PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

तिरुअनंतपुरम। लक्षद्वीप के प्रशासक प्रफुल खोड़ा पटेल के खिलाफ अपनी टिप्पणी को लेकर देशद्रोह के आरोप का सामना कर रही फिल्म निर्माता आयशा सुल्ताना रविवार को पुलिस के सामने पेश हुईं। मामले में अग्रिम जमानत के लिए सुल्ताना की याचिका को केरल उच्च न्यायालय ने गुरुवार को स्वीकार कर ली थी, लेकिन उसे 20 जून को पुलिस के सामने पेश होने के लिए कहा गया था। न्यायमूर्ति अशोक मेनन की एकल पीठ ने अपना अंतिम आदेश सुरक्षित रखते हुए उन्हें एक सप्ताह के लिए अग्रिम जमानत दे दी थी। फिल्म निर्माता के खिलाफ 10 जून को मामला दर्ज किया गया था जब कवरत्ती पुलिस ने लक्षद्वीप के भाजपा अध्यक्ष सी अब्दुल खादर हाजी की शिकायत पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया था।
 
सुल्ताना को आपराधिक प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 41 ए के तहत नोटिस दिया गया था, और पुलिस ने उन्हें मामले के संबंध में कवरत्ती में लक्षद्वीप पुलिस मुख्यालय में पेश होने के लिए कहा। शिकायत में हाजी ने एक मलयालम समाचार चैनलों पर एक बहस का हवाला दिया, जिसमें सुल्ताना ने केंद्र शासित प्रदेश के प्रशासक प्रफुल खोड़ा पटेल को 'जैव-हथियार' कहा था। हाजी ने कहा कि उनके शब्दों का मतलब खराब था और उनका इरादा लोगों के मन में नफरत और घृणा पैदा करना था।
 
HC के समक्ष सुनवाई के दौरान, फिल्म निर्माता के वकील ने कहा कि 'जैव-हथियार' शब्द का इस्तेमाल द्वीप में कोविड प्रोटोकॉल में दी गई ढील की आलोचना करने के संदर्भ में किया गया था और पीड़ित लोगों का प्रतिनिधित्व करने के लिए बनाया गया था। सुल्ताना के वकील ने कहा, 'वह कभी नहीं जानती थी कि इस शब्द के ऐसे निहितार्थ हो सकते हैं। उसने अगले दिन माफी मांगी। लक्षद्वीप में कोविड प्रतिबंधों में ढील दी गई, जिससे मामलों में तेजी आई। जैव-हथियार शब्दों का इस्तेमाल उस संदर्भ में किया गया था।
 
लेकिन लक्षद्वीप प्रशासन के वकील ने जमानत याचिका का विरोध करते हुए कहा कि सुल्ताना ने भारत सरकार के खिलाफ बयान दिया है। कवरत्ती पुलिस ने सुल्ताना पर आईपीसी की धारा 124 (ए) (देशद्रोह) और 153 (बी) (राष्ट्रीय हितों के खिलाफ कार्य) के तहत मामला दर्ज किया है। शिकायतकर्ता, लक्षद्वीप भाजपा अध्यक्ष हाजी ने कहा कि सुल्ताना ने झूठी और गलत मंशा से केंद्र सरकार से नफरत और विरोध पैदा किया है। इसके साथ ही कई स्थानीय भाजपा नेताओं ने सुल्ताना पर देशद्रोह का आरोप लगाने का विरोध किया। इनमें से एक दर्जन से अधिक ने विरोध में पार्टी छोड़ दी।
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »