06 Aug 2020, 13:24:05 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State » Others

जनसंख्या नियंत्रण के लिए ‘हम दो-हमारा एक‘ नारे की जरूरत : डा. रघु शर्मा

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Jul 11 2020 3:03PM | Updated Date: Jul 11 2020 3:04PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

जयपुर। राजस्थान के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि प्रदेश की जनसंख्या पर नियंत्रण के लिए हमें ‘हम दो-हमारा एक‘ नारे को अपनाना होगा। डॉ. शर्मा आज यहां विश्व जनसंख्या दिवस के मौके पर आयोजित वर्चुअल राज्य स्तरीय समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि बढ़ती जनसंख्या के चलते संसाधनों के अभाव में विकास अधूरा रह जाता है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की टीएफआर (टोटल फर्टिलिटी रेट) 2.5 है और इसे कम कर 2.1 पर लाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।
 
उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए प्रदेश सभी जिला कलक्टर, चिकित्सा अधिकारियों से चर्चा की और परिवार कल्याण के क्षेत्र में कार्य कर रहे कार्मिकों और संस्थाओं को भी सम्मानित किया। उन्होंने कहा कि बढ़ती जनसंख्या की समस्या अब हमारे यहां ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में विकराल रूप ले चुकी है। बढ़ती जनसंख्या के कारण प्रकृति का संतुलन निरन्तर बिगड़ता जा रहा है।
 
इससे खाद्यान्न, पेयजल, आवास, शिक्षा, स्वास्थ्य एवं रोजगार की समस्याएं हो रही है। डा.शर्मा ने 11 जुलाई से 24 जुलाई तक प्रदेश में जनसंख्या स्थिरता पखवाड़े का शुभारम्भ करते हुए कहा कि इस दौरान प्रदेशभर में ‘‘आपदा में भी परिवार नियोजन की तैयारी, सक्षम राष्ट्र और परिवार की पूरी जिम्मेदारी’’ का संदेश गांव-गांव और ढ़ाणी-ढ़ाणी तक पहुंचाया जाएगा। उन्होंने बताया कि आमजन में स्वास्थ्य सेवाओं के प्रति जागरूकता लाने के लिए 41645 राजस्व गांवों से 1 महिला और 1 पुरुष लगभग 80 हजार लोगों का चयन बतौर स्वास्थ्य मित्र कर लिया गया है। सभी स्वास्थ्य मित्रों का 15 जुलाई तक प्रशिक्षण करवाकर उन्हें दायित्व दिया जाएगा।
 
स्वास्थ्य मित्रों के सहयोग से राज्य में स्वास्थ्य सेवाओं के क्षेत्र में सकारात्मक माहौल बनेगा, जो कि ‘निरोगी राजस्थान‘ के लिए एक मजबूत कदम साबित होगा।   इसअवसर पर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्य मंत्री डॉ. सुभाष गर्ग ने इस मौके पर कहा कि बढ़ती जनसंख्या हालांकि बड़ी चुनौती से कम नहीं है, लेकिन इसे भी सुअवसर में बदलने की जरूरत है। उन्होंने परिवार कल्याण के क्षेत्र में काम करने वाले चिकित्साकर्मी और संस्थाओं को बधाई और शुभकामनाएं भी दी। 
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »