04 Dec 2022, 18:29:46 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State

त्रिपुरा की जनता भाजपा को फिर ला देगी दो फीसदी पर : कांग्रेस

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Sep 22 2022 3:27PM | Updated Date: Sep 22 2022 3:27PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

अगरतला । पश्चिम त्रिपुरा में सिपाहीजला जिले में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और विपक्षी दल मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई-एम) एवं तृणमूल कांग्रेस को बुधवार को करारा झटका लगा है जब सीमावर्ती कस्बे साेनामूरा में भाजपा समर्थक 1126 और 1320 तृणमूल कांग्रेस समर्थकों सहित 3162 मतदाताओं ने कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण कर ली। कांग्रेस विधायक और भाजपा सरकार में पूर्व मंत्री सुदीप रायबर्मन ने गुरुवार को पत्रकारों से बातचीत में दावा किया कि पिछले तीन महीनों के दौरान पश्चिम त्रिपुरा, दक्षिण, गोमाती, धालई, उत्तर और उनोकोटि में विभिन्न दलों के 10 हजार से अधिक स्थानीय नेता कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं।
 
उन्होंने कहा, “ त्रिपुरा के लोग 25 सालों तक वामपंथियों से छले गये। 2018 से पहले भाजपा वाममोर्चा के सामने एक मजबूत दल के तौर पर सामने आयी थी। सभी ने मिलकर भगवा ब्रिगेड के लिए काम किया जिसकी बदौलत राज्य की राजनीति में दो प्रतिशत से भी कम हिस्सेदारी रखने वाली भाजपा 42 प्रतिशत वोट शेयर के साथ सत्ता में आयी, मगर अपने पहले कार्यकाल में ही भगवा ब्रिगेड बुरी तरह फ्लाप साबित हुयी। भ्रष्टाचार, जनविरोधी क्रियाकलापों और गुंडों को संरक्षण देने वाली भाजपा को 2023 में राज्य की जनता एक बार फिर से दो फीसदी मत प्रतिशत पर लाकर खड़ा कर देगी। ”
 
कांग्रेस नेता ने कहा कि प्रधानमंत्री, गृह मंत्री समेत भाजपा के सभी नेताओं ने न सिर्फ मतदाताओं को धोखा दिया है बल्कि अपने सहयोगी आईपीएफटी के साथ किये गये लोकलुभावन वादों से भी मुंह फेरा है। पिछले साढ़े चार सालों के कार्यकाल में भाजपा 299 वादों में से दो को भी पूरी तरह निभा नहीं सकी है। भाजपा के नेता और मंत्री जनता के धन का इस्तेमाल व्यक्तिगत प्रचार के लिये कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिन पर राज्य के मुख्यमंत्री ने तीन लाख छह हजार लाभार्थियों को सामाजिक पेंशन एक हजार रुपये से बढ़ा कर दो हजार रुपये प्रति माह करने की घोषणा की मगर सरकार ने यहां भी जनता को झूठ बोल कर छला और बड़ी संख्या में वास्तविक लाभार्थी इससे वंचित हुये। अब उन्हें 2023 का इंतजार है, जब वह अपने वोट की ताकत से अगली सरकार का फैसला करेंगे।
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »