21 May 2022, 13:50:05 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Business

GST collection में फिर बड़ा रिकॉर्ड, नवंबर में हुई 1.31 लाख करोड़ की वसूली

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Dec 1 2021 1:58PM | Updated Date: Dec 1 2021 1:58PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

नई दिल्‍ली। GST कलेक्‍शन नवंबर में नई ऊंचाई पर पहुंच गया है। नवंबर 2021 में सरकार को 1.31 लाख करोड़ रुपये GST (माल और सेवा कर) के तौर पर मिला। अप्रैल 2021 के बाद यह दूसरी बड़ी वसूली है। एक और खास बात यह है कि नवंबर 2021 में जितना GST आया, वह नवंबर 2020 के मुकाबले 25 फीसद ज्‍यादा है। November में CGST 23978 करोड़ रुपये, SGST 31,127 करोड़ रुपये और IGST की वसूली 66815 करोड़ रुपये रही। इसमें Cess 9606 करोड़ रुपये रहा। सरकारी बयान के मुताबिक अप्रैल के बाद नवंबर में इतनी तगड़ी GST वसूली हुई है। इससे इकोनॉमिक रिकवरी में तेजी के संकेत मिल रहे हैं। नवंबर में जीएसटी कलेक्‍शन अब तक का दूसरा सबसे बड़ा है। इस साल अप्रैल में 1.39 लाख करोड़ रुपये बतौर GST आए थे। इससे पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था कि केंद्र कानून के अनुसार जीएसटी क्रियान्वयन की वजह से राज्यों को होने वाले राजस्व नुकसान की 5 साल तक क्षतिपूर्ति के लिये पूरी तरह से प्रतिबद्ध है।
 
सीतारमण ने कहा था कि जीएसटी संविधान संशोधन अधिनियम के तहत केंद्र को माल और सेवा कर (जीएसटी) के क्रियान्वयन से राज्यों को राजस्व में होने वाले नुकसान की पांच साल तक भरपाई करनी है। इस दौरान राज्यों के राजस्व को वर्ष 2015-16 के आधार पर सालाना 14 प्रतिशत की दर पर संरक्षित रखने की व्यवस्था की गयी है।
 
सीतारमण ने राज्यसभा में मंगलवार को कहा कि केंद्र सरकार संवैधानिक व्यवस्था के तहत राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों को पांच साल के लिये जीएसटी क्षतिपूर्ति के लिये प्रतिबद्ध है। उनसे यह पूछा गया था कि क्या सरकार इस तथ्य से अवगत है कि कोई राज्य राजस्व में 14 प्रतिशत अनुमानित वृद्धि को हासिल नहीं कर पाया है। अगर ऐसा है, तो क्या सरकार 2022 के बाद जीएसटी क्षतिपूर्ति का इरादा रखती है। सीतारमण ने कहा था कि जीएसटी क्षतिपूर्ति मद में 2020-21 के लिये 37,134 करोड़ रुपये और 2021-22 के लिये 14,664 करोड़ रुपये जारी किये जाने बाकी हैं।
 
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »