10 May 2021, 23:25:32 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Sport

T-20 सीरीज में कई सवालों के जवाब ढूंढने उतरेगी टीम इंडिया

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Mar 11 2021 5:12PM | Updated Date: Mar 11 2021 5:13PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

अहमदाबाद। भारतीय क्रिकेट टीम इस साल अक्टूबर-नवंबर में अपनी मेजबानी में होने वाले टी-20 विश्व कप के लिए इंग्लैंड के खिलाफ शुक्रवार से यहां नरेंद्र मोदी स्टेडियम में शुरू हो रही पांच मैचों की टी-20 सीरीज में कई सवालों के जवाब ढूंढने उतरेगी। भारत ने इंग्लैंड से चार मैचों की टेस्ट सीरीज 3-1 से जीत ली है और वह इस विजय क्रम को छोटे फार्मेट में भी बरकरार रखने के इरादे से उतरेगा। भारत के सलामी बल्लेबाज और उप कप्तान रोहित शर्मा मानते हैं कि यह सीरीज टी-20 विश्व कप के लिए कोई रिहर्सल नहीं है, जबकि बल्लेबाजी कोच विक्रम राठौड़ की नजर में यह सीरीज विश्व कप के लिए सही संतुलन ढूंढने का एक अच्छा मौका है।
 
टीम इंडिया को एक सही संयोजन ढूंढने के लिए इस सीरीज में कई सवालों के जवाब ढूंढने होंगे। पहला बड़ा सवाल ओपनिंग का है, जिसमें रोहित शर्मा के साथ उनका जोड़ीदार कौन होगा, टीम प्रबंधन को इस सवाल पर काफी मंथन करना होगा। रोहित की बाएं हाथ के बल्लेबाज शिखर धवन के साथ काफी सफल जोड़ी रही है, लेकिन पिछले कुछ समय में शिखर का फॉर्म उनके साथ नहीं है। ओपनिंग में शिखर को कड़ी टक्कर दे रहे लोकेश राहुल, जो आस्ट्रेलिया दौरे में विकेटकीपर बल्लेबाज रहे थे। राहुल ने आईपीएल के पिछले सत्र में काफी शानदार बल्लेबाजी की थी और फॉर्म के लिहाज से वह शिखर से आगे दिखाई दे रहे हैं। 2019 से टी-20 और आईपीएल को मिला कर देखा जाए तो शिखर ने 133.43 के स्ट्राइक रेट से 854 रन बनाए हैं, जबकि इसी दौरान राहुल ने 136.36 के स्ट्राइक रेट 960 रन बनाए हैं।
 
इस दौरान शिखर का औसत  जहां 40.66 रहा है, वहीं राहुल का औसत  87.27 रहा है। अब यह टीम प्रबंधन को देखना है कि वह रोहित और शिखर की पुरानी तथा अनुभवी जोड़ी पर भरोसा करता है या फिर राहुल को ओपनिंग में आजमाता है। पूर्व भारतीय बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण का भी मानना है कि ओपनिंग में रोहित के साथ राहुल को उतारा जाना चाहिए। ओपनिंग के बाद दूसरा सवाल मध्यक्रम को लेकर है। सूर्यकुमार यादव मध्यक्रम में जगह बनाने के प्रबल दावेदार हैं। सूर्य ने पिछले आईपीएल ने काफी शानदार बल्लेबाजी की थी। यदि सूर्य को टीम में लिया जाता है तो श्रेयस अय्यर को बाहर बैठना पड़ सकता है।
 
अय्यर ने हालांकि हाल में विजय हजारे ट्रॉफी में दो शतक जमाए थे और टीम को सेमीफाइनल तक पहुंचाया था। अय्यर और सूर्य दोनों ही मुंबई की टीम के साथी हैं। भारतीय टीम प्रबंधन को विकेटकीपर बल्लेबाज के बारे में भी गहराई से सोचना है। ऋषभ पंत ऑस्ट्रेलिया दौरे में छोटे फार्मेट से बाहर रहे थे, जबकि राहुल ने कीपिंग की जिम्मेदारी संभाली थी। पंत ने ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में मैच विजय प्रदर्शन किया और मौजूदा फॉर्म के आधार पर वह छोटे फार्मेट में टीम में जगह बनाने के प्रबल दावेदार हैं। यदि पंत विकेटकीपर बनते हैं तो राहुल को एक बल्लेबाज के तौर पर उतरना होगा।
 
तेज गेंदबाजी एक ऐसा क्षेत्र है, जहां भारत को काफी मशक्कत करनी पड़ेगी। जसप्रीत बुमराह टेस्ट सीरीज के आखिरी मैच में नहीं खेले थे और वह टी-20 सीरीज में भी नहीं खेल रहे हैं। बुमराह के साथ मोहम्मद शमी भी टी-20 सीरीज से बाहर हैं। ऐसे में भारत का तेज आक्रमण कैसा होगा, यह एक दिलचस्प सवाल है। भुवनेश्वर कुमार ने चोट से उबरने के बाद टीम में वापसी की है। उनके जोड़ीदार के रूप में शार्दुल ठाकुर, दीपक चाहर और नवदीप सैनी के बीच मुकाबला रहेगा। ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या अभी गेंदबाजी करने के लिए तैयार हो पाए हैं या नहीं यह सवाल भी टीम के सामने है।
 
हार्दिक ने पिछले आईपीएल और ऑस्ट्रेलिया दौरे में केवल बल्लेबाजी की थी। भुवनेश्वर भी चोट से उबर कर वापसी कर रहे हैं और वह दिसंबर 2019 के बाद से पहली बार खेलेंगे। स्पिन विभाग एक बार फिर लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल के हाथों में रहेगा। उनका साथ देने के लिए टीम प्रबंधन स्पिन ऑलराउंडर वॉशिंगटन सुंदर या अक्षर पटेल में से किसी को आजमा सकता है। टी-20 सीरीज में इंग्लैंड की कप्तानी इयोन मोर्गन संभालने जा रहे हैं। टीम में खतरनाक बल्लेबाज डेविड मलान शामिल हैं, जिन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू टी-20 सीरीज में काफी जबरदस्त बल्लेबाजी की थी।
 
शीर्ष क्रम के बल्लेबाज जैसन रॉय, ऑलराउंडर बेन स्टोक्स, सैम करेन, टॉम करेन, विकेटकीपर बल्लेबाज जोस बटलर की मौजूदगी में इंग्लैंड की टीम काफी सशक्त नजर आती है। इंग्लैंड इस सीरीज में भारत से टेस्ट सीरीज की हार का बदला चुकाने की पूरी कोशिश करेगा। भारत और इंग्लैंड के बीच टी-20 मुकाबलों में 50-50 का रिकॉर्ड है। दोनों के बीच अब तक 14 मैच हुए हैं, जिसमें भारत ने सात जीते हैं और सात हारे हैं। भारत अपनी पिछली सात टी-20 सीरीज से अजेय है, जिनमें से एक सीरीज ड्रॉ रही है। भारत ने अपनी पिछली सात सीरीज में वेस्ट इंडीज, बंगलादेश, वेस्ट इंडीज, श्रीलंका, न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया को हराया है, जबकि दक्षिण अफ्रीका के साथ मुकाबला 1-1 से ड्रॉ रहा था। भारत और इंग्लैंड के बीच आखिरी टी-20 सीरीज 2016-17 में हुई थी और भारत ने यह घरेलू सीरीज 2-1 से जीती थी।
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »